मेरा भारत महान निबंध-Mera Bharat Mahan Essay in Hindi

5/5 - (8 votes)

भारत एक विविध संस्कृति और इतिहास वाला देश है। यह समझने के लिए कि भारत को इतना अनूठा क्या बनाता है, आपको सबसे पहले इसके इतिहास को समझना होगा। भारत का एक समृद्ध और लंबा इतिहास है, जो विभिन्न सभ्यताओं और संस्कृतियों से भरा हुआ है। भारत के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक इसकी देवी हैं। इन देवी-देवताओं को उनके स्थायी गुणों के लिए जाना जाता है और भारत में हिंदू और मुस्लिम दोनों लोगों द्वारा उनकी पूजा की जाती है। भारत की हिंदू देवी-देवता भी भारतीय संविधान द्वारा संरक्षित हैं।

मेरा भारत महान निबंध (Mera Bharat Mahan Essay in Hindi)

भारत दक्षिणी एशिया का एक देश है। यह 3.29 मिलियन वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करता है, और इसकी आबादी 1.3 बिलियन से अधिक है। भारत दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है, और यह विभिन्न प्रकार के जातीय समूहों का घर है, जिनमें हिंदी, तमिल, मराठी और उर्दू शामिल हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जो लोकतंत्र के सिद्धांतों का पालन करता है, और यह अपनी अनूठी संस्कृति और विविध भाषाओं के लिए जाना जाता है।

मुझे अपने भारतीय होने पर गर्व होता है। यहां अलग अलग धर्म, जाति, भाषा, रंग, वह संस्कृति के लोग बहुत प्रेम से मिलजुल कर रहते हैं। यहां मंदिर में पूजा पाठ के समय बजती घंटी और शंख की मीठी ध्वनि आपको पवित्रता का एहसास दिलाती है। जहां मस्जिद चर्च वा गुरुद्वारा में बहुत ही सकून का अनुभव होता है। यह सब,भारत को विश्व में अन्य देश से अलग बना है

See also  ग्लोबल वार्मिंग निबंध-Global Warming Essay in Hindi

भारत ने हमेश हर धर्म वह हर संस्कृति का सम्मान किया है। जहां दिवाली, होली, क्रिसमस, ईद जैसे हर त्योहर को अपने पन के एहसास के साथ माना जाता है। भारत में “अतिथि देवो भव” की संस्कृति है, इसका मतलब यह है की महमान भगवान का रूप है।

मुघलो और अंगरेजों ने भारत पर कई वर्षो तक राज किया लेकिन हम भारतियों ने उनका वह भी ए दिल खोल कर स्वागत किया। उन्होंने कई बार भारत में पैर डालने की नीति अपना ही लेकिन भारत ने विहितता के रहते हुए वहां से भाग जाने के लिए मजबूर कर दिया।

इतना सब कुछ होने के बाद हमारी संस्कृति, संस्कार, और अपनापन कोई बदला नहीं आया। भारत की संस्कृति सच में अदभुत है। दूसरे देश से लोग भारत की संस्कृति और सभ्यता का अध्ययन करने आते हैं।अपने से बडो का आदर सत्कर करना, छोटे के साथ विनम्रता का व्यवसाय करना हमारी संस्कृति का हिसा है।

हमन बचपन से ही परिवार का महान बताया जाता है। भारत में बच्चन को बचपन से ही सिखया जाता है कि कैसे परिवार को प्रेम के धागे में पिरो कर रखना चाहिए और कैसे भाईचारे से सबके साथ रहना चाहिए। अपनी संस्कृति को कभी नहीं भूलना चाहिए और अपने भारतीय होने का गर्व होना चाहिए।

Leave a Comment